Categories
फैक्ट फाइल

तुर्की जाने वाले पर्यटकों के लिए सरकार ने क्यों जारी की एडवाइजरी?

नई दिलली। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद से पाकिस्तान भारत के खिलाफ लगातार प्रोपैगैंडा फैलाने की कोशिश में जुटा है। हालांकि कोई खास सफलता नहीं मिल पा रही है।

इन सबके बीच तुर्की और मलेशिया ने कश्मीर मामले पर पाकिस्तान के रूख का समर्थन किया है, जिसको लेकर भारत और तुर्की व मलेशिया के बीच संबंधों में खट्टास उत्पन्न हो गई है।

तुर्की का कुर्दों पर हमला

सीरिया से अमरीकी सैनिकों की वापसी के बीच तुर्की ने कुर्दिश लड़ाकों पर हमला करना शुरू कर दिया है। इसे लेकर पूरी दुनिया में तुर्की की आलोचना हो रही है। ऐसे में भारत ने भी एक स्टैंड लेते हुए तुर्की की आलोचना की है।

तुर्की के हमले के जवाब में कुर्दिश लड़ाके भी पलटवार कर रहे हैं। इस बीच सीरियाई सरकार का भी कुर्दों को कुछ शर्तों के साथ समर्थन मिला है।

तुर्की के ताजा हालातों के मद्देनजर भारतीय दूतावास ने एक एडवाइज़री जारी की। इसमें लिखा गया है, ‘भारत सरकार के पास लगातार तुर्की में यात्रा करने को लेकर सवाल किए जा रहे थे, तुर्की के ताजा हालातों को देखते हुए लोग काफी चिंतित लग रहे हैं।

हालांकि, इस तरह की कोई रिपोर्ट सामने नहीं आई है जिसमें किसी भारतीय नागरिक को नुकसान हुआ हो फिर भी कोई भी भारतीय नागरिक तुर्की यात्रा करते समय अत्यंत सतर्कता बरतें।‘

विदेश नीति में बदलाव

लाखों की संख्या में भारतीय पर्यटक तुर्की जाते हैं और वहां की अर्थव्यस्था को मजबूत करने में मदद करते हैं।

मोदी सरकार ने कश्मीर मामले में तुर्की की ओर से लगातार आ रहे अनचाहे बयानों का जवाब देने के लिए एक नई तरह की नीति अपनाई है।

भारत ने सांकेतिक तौर पर तुर्की और कुर्दों के लडाई के आड़ में अपने नागरिकों से यह कहने की कोशिश की है कि वे तुर्की न जाएं। ताकि उनकी अर्थव्यवस्था पर असर पड़ेगा और वे भारत के प्रति साकारात्मक हो सकें। ऐसा पहली बार हो रहा है जब भारत ने विदेशी नीति के तौर पर इस तरह का कोई कदम उठाया है।

भारतीय पर्यटकों की बढ़ोतरी

तुर्की में हाल के वर्षों में भारतीय पर्यटकों की काफी बढ़ोतरी देखने को मिला है। इस साल की बात करें तो 56 फीसदी बढ़ोतरी देखने को मिला। तुर्की के पर्यटन इंडस्ट्री को उम्मीद है कि 2019 के अंत तक करीब 2.5 लाख भारतीय पर्यटक आएंगे

ऐसे में अब यदि सरकार के एडवाइजरी को भारतीय मानते हैं तो तुर्की को बहुत बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है।