Categories
फैक्ट फाइल

कई ऐतिहासिक घटनाओं का गवाह रहा है 9/11, आज अयोध्या-करतारपुर पर बनेगा इतिहास

9 नवंबर का दिन इतिहास में कई घटनाओं के लिए दर्ज है। इसमें बर्लिन की दीवार का गिराना, गुरु गोविंद सिंग का सिख गुरु बनना आदि शामिल है।

आज का दिन (9 तारीख 11वां महीना) इतिहास के पन्नों में कई घटनाओं का जिक्र दर्ज है और आज दो अन्य महत्वपूर्ण घटनाएं इतिहास के पन्नों में दर्ज हो जाएगी। दरअसल, अयोध्या मामले पर जहां एक ओर ऐतिहासिक फैसला आने वाला है तो वहीं दूसरी ओर भारत-पाकिस्तान के बीच तमाम टकराव के बीच करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन किया जाएगा। अब आइए जानते हैं कि आखिर आज के दिन इतिहास में कौन–कौन सी ऐसी घटनाएं हैं दर्ज है..

बर्लिन की दीवार का गिराना

आज के दिन ही जर्मनी के बर्लिन में स्थित बर्लिन की दीवार को गिराया गया था। बर्लिन की दीवार पूरी दुनिया में प्रसिद्ध था। दरअसल पश्चिमी बर्लिन और जर्मन लोकतांत्रिक गणराज्य के बीच एक दीवार बनी थी जो बर्लिन की दीवार के नाम से जानी जाती है। यह दोनों के बीच एक अवरोध थी। यह दीवार 28 साल तक बर्लिन शहर को पूर्वी और पश्चिमी टुकड़ों में बांट रखा था। जिसे 9 नवंबर 1989 के बाद के सप्ताहों में तोड़ दिया गया। बर्लिन की दीवार अंदरूनी जर्मन सीमा का सबसे प्रमुख भाग थी और शीत युद्ध का प्रमुख प्रतीक थी। बता दें कि इसे 13 अगस्त 1961 में बनाया गया था।

गुरु गोविंद सिंह सिखों के बने गुरु

गुरु गोविंद सिंह आज ही के दिन ही सिखों के गुरु बने थे। 1675 में गुरु गोविंद सिंह अपने पिता गुरु तेग बहादुर की मृत्यु के उपरान्त गुरु बने थे।  गुरु गोबिंद सिंह ने ही सिख धर्म के पवित्र ग्रंथ गुरु ग्रंथ साहिब को पूरा किया था।

डाक टिकट की प्रदर्शनी

आज के दिन 1973 में पहली अंतरराष्ट्रीय डाक टिकट प्रदर्शनी राजधानी नई दिल्ली में शुरू हुई थी।

करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन

आज का दिन करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन किया जाएगा, जो हमेशा के लिए इतिहास में दर्ज हो जाएगा। इस कॉरिडोर के खुलने के साथ ही भारतीय श्रद्धालु करतारपुर साहिब गुरुद्वारे के दर्शन कर सकते हैं। बता दें कि 550वां प्रकाश पर्व मनाने के लिए भारत-पाकिस्तान की दोनों सरकारों ने मंजूरी दे दी है।